कश्मीरी पत्थरबाज को जीप से बांधने वाले मेजर एल गोगोई सम्मानित

भारतीय सेना के मेजर एल. गोगोई को आतंकवाद विरोधी अ

6 months ago
कश्मीरी पत्थरबाज को जीप से बांधने वाले मेजर एल गोगोई सम्मानित

भारतीय सेना के मेजर एल. गोगोई को आतंकवाद विरोधी अभियान में दिए गए योगदान के लिए सम्मानित किया गया। खबरों के मुताबिक सेना ने उन्हें चरमपंथ रोधी अभियान के लिए पुरस्कृत किया। मेजर लीतुल गोगोई को सेना प्रमुख के कॉमनडेशन कार्ड से भी सम्मानित किया गया

अप्रैल महीने में मेजर गोगोई ने फ़ारुक़ अहमद डार नामक एक व्यक्ति को ढाल बनाकर जीप में घुमाया, जिससे वह चर्चा में आ गए थे।

9 अप्रैल 2017 को हुए उपचुनाव में श्रीनगर लोकसभा सीट के लिए डार को जीप में बांधकर घुमाये जाने का विडिओ वायरल हुआ था।जिसकी चुनिंदा लोगों द्वारा सार्वजानिक आलोचना शुरू की गयी थी। इस मामले की जांच कराने की मांग जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर के जरिये की थी। इस मामले में भारतीय सेना की 53वीं राष्ट्रीय रायफल्स के विरुद्ध जम्मू-कश्मीर पुलिस ने एफआईआर भी दर्ज की थी।


सेना ने रखा अपना पक्ष

सेना के द्वारा कहा गया कि अगर डार को ढाल की तरह नहीं खड़ा किया जाता तो सैकड़ों लोगों की भीड़ पोलिंग अधिकारियों और अर्द्धसैनिक बलों के जवानों पर हमला बोल देती। जब पोलिंग अधिकारियों का एक समूह मतदान केंद्र से बच निकलने की कोशिश के दौरान उनका सामना पत्थर बाजो से हो गया। उनकी मदद के लिए सेना की टीम को बुलाया गया। भीड़ बड़ चुकी थी इसलिए 15 जवानो द्वारा उनको संभालना मुश्किल था।

सूत्रों ने बताया कि अगर गोली बारी करते तो भीड़ भड़क जाती। इसलिए कमांडर ने एक व्यक्ति को पकड़ कर जीप से बांध दिया ताकि सेना और पोलिंग अधिकारी सुरक्षित बाहर निकल सके। बाद में उस व्यक्ति को पुलिस को सोप दिया गया।   

फ़ारुक़ अहमद डार का बयान

बीबीसी संवाददाता सलमान रावी को फ़ारुक़ अहमद डार ने बताया कि उसे सुबह 11 बजे से लेकर शाम सात बजे तक जीप में घुमाया।

डार ने कहा कि 

"राष्ट्रीय रायफल्स के लोगों का कहना था कि मैं पत्थरबाज़ हूं, जबकि मैंने कभी पत्थरबाज़ी नहीं की. मैंने वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड दिखाया, लेकिन उन्होंने कुछ नहीं माना."

मेजर गोगोई को ट्विटर पर मिली बधाई

Comment