मोदी और डोनाल्ड ट्रंप की पहली मुलाकात 26 जून को - जानिए क्या है मायने?

वाइट हाउस में 26 जून को भारत के

2 months ago
मोदी और डोनाल्ड ट्रंप की पहली मुलाकात 26 जून को - जानिए क्या है मायने?

वाइट हाउस में 26 जून को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच पहली मुलाकात होगी। दोनों देशों के लोग इस घडी का बेसब्री से इंतजार कर रहे है। आपको बता दें कि नवम्बर 2016 में ट्रंप को राष्ट्रपति बनने के उपलक्ष्य में पीएम मोदी ने उन्हें बधाई दी थी। इसके उपरांत 20 जनवरी को उनकी फोन पर बातचीत हुई। इसके बाद जब मोदी को ट्रंप की तरफ से वॉशिंगटन आने का न्यौता मिला तो पीएम मोदी ने उसे स्वीकार कर लिया। अब पीएम मोदी 25 जून को वॉशिंगटन के लिए प्रस्थान करेंगे और 26 जून को राष्ट्रपति ट्रंप मिलेंगे

ट्रंप के राज में पीएम मोदी का पहला दौरा

Source = Financialexpress

दोनों नेताओं के बीच कम से कम तीन बार फोन पर बात हो चुकी है, लेकिन ट्रंप के सत्ता सम्हालने के बाद पीएम मोदी का यह पहला अमेरिका दौरा होगा।

वैसे तो प्रधानमंत्री ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा से व्हाइट हाउस में कई बार मुलाकात की थी किन्तु इस बार की मुलाकात पहले जैसी नहीं होगी, क्योंकि इस मुलाकात से पहले दोनों देशो के बीच कई ऐसी बातें हो चुकी है, जिसके बाद दोनों देशों के बीच रिश्ते सामान्य नहीं है।

कई मौके पर दोनों की बात हुई

Source = India

अगर देखा जाये तो प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति ट्रम्प दोनों ही राइटविंग लीडर्स है। जिस कारण लोगों को लगा था कि दोनों नेताओं की केमिस्ट्री काफी अच्छी होगी और शुरू के दौर में अच्छी भी थी।जब पीएम मोदी ने ट्रंप को राष्ट्रपति बनने पर फोन कर बधाई दी थी तो ट्रंप ने शपथ लेने के पांच दिन बाद ही पीएम मोदी से फ़ोन पर बातचीत की थी। बातचीत के दौरान ट्रैम्प ने पीएम मोदी से कहा कि भारत आज भी उनका अच्छा दोस्त है पर कुछ विपरीत परिस्थियों के कारण इस पर बुरा असर हो रहा है।

ट्रम्प का मोदी पर निशाना

Source = Financialexpress

दोनों देशो के बीच शुरुआत अच्छी होने के बावजूद पेरिस जलवायु समझौते पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने पिछले गुरुवार को भारत की  आलोचना की थी। जिसके चलते माना जा रहा है कि ट्रंप का यह रुख भारत के लिए सख्त है। ट्रंप ने कहा, 'भारत विकसित देशों से बिलियन और बिलियन डॉलर की विदेशी मदद लेता और फिर इस तरह के समझौतों का हिस्‍सा बनता है।' ट्रंप का यह पहला बयान है जिसमें उन्‍होंने भारत पर सीधा निशाना साधा। ट्रंप ने कहा,'जरा सोचिए अगर भारत अपने यहां कोयले का उत्‍पादन दोगुना कर सकता है तो फिर हम चैन की सांस ले सकते हैं।'

मुलाकात से पहले ट्रम्प का रुख सख्त

Source = Wordpress

डॉनल्ड ट्रंप (5.3-10) का पीएम मोदी के साथ मुलाकात से पहले ही इतना सख्त रुख देखकर सभी आश्चर्य चकित है। ट्रंप ने जब से सत्ता संभाली है तभी से ही उन्होंने विदेशी नीतियों पर अपने रुख में बदलाव किये है। इसके अलावा ट्रंप ने चीन को करेंसी मैनपुलेटर मानने से मना कर दिया, जबकि चुनावों से पहले ट्रंप चीन को इसका दोषी बताते थे। इसके साथ ही उन्होंने चीन को कह दिया है कि वह चीन की वन चाइना पॉलिसी का सम्मान करते हैं।

ये है सकारात्मक संकेत 

अभी तक तो कई मुद्दों पर भारत और अमेरिका एक दूसरे के विपरीत नजर आये है, लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ लड़ाई में दोनों एक साथ है। ट्रंप का रुख पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा है और यह बात भारत के लिए राहत देने वाली है। अमेरिका जो कि कभी पाकिस्तान को अपना अच्छा दोस्त समझता था, अब वह भारत की तरफ झुकता हुआ नजर आ रहा है। यह बात भारत के लिए एक सकारात्मक संकेत है। ऐसा माना जा रहा है कि इस बैठक में दोनों नेता आतंकवाद से जुड़े मुद्दों और हेच -1बी वीज़ा नियमों में संभावित बदलाव पर चर्चा करने वाले है।

Comment