चीन सीमा के पास बने भारत के सबसे बड़े पुल का 26 मई को पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

चीन की सीमा के पास असम में बने पुल का उद्घाटन

6 months ago
चीन सीमा के पास बने भारत के सबसे बड़े पुल का 26 मई को पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

चीन की सीमा के पास असम में बने पुल का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 मई को करेंगे। किसी नदी पर बना अब तक का यह सबसे लम्बा पुल है। यह पुल इतना मजबूत है कि 60 टन वजन के युद्धक टैंक का भार भी वहां कर सकता है। 9.15 किलोमीटर लम्बे ब्रह्मपुत्र नदी पर बने धोला-सादिया पुल के उट्घाटन के साथ ही पीएम मोदी असं के पूर्वी भाग से राजग सरकार के तीन साल पुरे होने का जश्न भी आरम्भ करेंगे।

इस पुल का निर्माण भारत और चीन सीमा पर किया गया है। इसे खासतौर पर पूर्वोत्तर में भारत की रक्षा जरूरतों को देखते हुए अच्छा कदम बताया जा रहा है। इसके अलावा यह पुल अरुणचाल प्रदेश और असम के लोगों के लिए रेल और हवाई संपर्क के साथ-साथ सड़क संपर्क को भी आसान बनाएगा।


असम के मुख्यमंत्री सर्बानन्द सोणोवाल (5.3-1) ने बताया कि इस पुल का निर्माण साल 2011 में शुरू हुआ और इस पुल की परियोजना के मुताबिक इसकी लागत 950 करोड़ रुपए है। इस पुल का डिजाइन इस प्रकार का है कि यह पुल सैन्य टैंकों का भार भी वहां करने की क्षमता रखता है। उन्होंने कहा ‘‘प्रधानमंत्री सामरिक रूप से अहम इस पुल को 26 मई को देश को समर्पित करेंगे. यह पूर्वोत्तर में सड़क संपर्क को भी आसान बनाएगा क्योंकि रक्षा बलों द्वारा बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करने के अलावा पुल का उपयोग असम और अरूणाचल प्रदेश के लोग भी करेंगे.’’

सोणोवाल ने आगे कहा कि ‘‘असम और अरूणाचल प्रदेश का देश के लिए अत्यंत सामरिक महत्व है. पुल चीन के साथ हमारी सीमा के करीब है। लिहाजा टकराव के समय यह सैनिकों और तोपों की तेजी से आवाजाही में मदद करेगा.’’ इस पुल की दूरी असम की राजधानी दिसपुर से 540 किलोमीटर और अरुणचल प्रदेश की राजधानी इटानगर से 300 किलोमीटर है। इसके अलावा चीनी सीमा से हवाई दुरी 100 किलोमीटर से कम है।

Comment