मुलायम के बहु-बेटे के बुलावे पर योगी पहुंचे कान्हा उपवन - क्या है मुलाकातों का मकसद

उत्तर प्रदेश के नए सीएम य

3 months ago
मुलायम के बहु-बेटे के बुलावे पर योगी पहुंचे कान्हा उपवन - क्या है मुलाकातों का मकसद

उत्तर प्रदेश के नए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कल शुक्रवार को कान्हा उपवन का दौरा किया। कान्हा उपवन लखनऊ स्थित आवारा पशुओं के लिए बना शेल्टर होम है। यहाँ पर लावारिस पशुओं जैसे गाय, भैंस व कुत्तों की देखभाल का काम किया जाता है। लावारिस जानवरों को कान्हा उपवन लाया जाता है और वहाँ उनकी देखभाल की जाती है।

इस कान्हा उपवन में योगी के साथ डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा भी साथ थे। योगी ने बहुत समय कान्हा उपवन में गुजारा और गायों को चारा खिलाया।

आपको बता दे कि यह कान्हा उपवन यूपी के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के छोटे भाई और उनकी बीवी अपर्णा यादव चलाती है। ये गोशाला लखनऊ के सरोजनी नगर इलाके में हैं। इसकी पूरी देख रेख अपर्णा यादव का एक एनजीओ करता है।

सुनने में आया है कि अपर्णा यादव ने सीएम योगी आदित्यनाथ को इस गौशाला में निमंत्रित किया था। बाद में प्रतीक, अपर्णा और अपर्णा के भाई अमन सिंह बिष्ट ने योगी को कान्हा उपवन में आने के लिए धन्यवाद दिया।


विधान सभा का चुनाव लड़ चुकी है अपर्णा

Source = Hindustantimes

अपर्णा यादव ने लखनऊ कैंट से विधानसभा चुनाव भी लड़ा था, हालाँकि वो रीता बहुगुणा जोशी से हार गई थीं। सुनने में आया है कि जबसे भाजपा को विधानसभा चुनाव में बहुमत मिला है अपर्णा और प्रतीक ने योगी के साथ दूसरी मुलाक़ात की है। जब 2014 में महंत अवैद्यनाथ की मौत हुई थी, उस समय भी अपर्णा ने योगी से गोरखपुर पहुंचकर मुलाकात की थी।

अपर्णा और योगी दोनों राजपूत

Source = Indianexpress

योगी से अपर्णा की मुलाकात के राजनीति गलियारों में अलग ही कयास लगाए जा रहे हैं। इसे दो तरह से देखा जा रहा है। अपर्णा और योगी दोनों ही उत्तराखंड से हैं और दोनों ही राजपूत (बिष्ट) भी हैं। यह चीज़े देखकर कुछ लोगों का मानना है कि दोनों में भाई-बहन का रिश्ता है और ये शिष्टाचार की मुलाकाते हैं। 

वही दूसरी और यह कयास भी लगाए जा रहे है कि मुलायम परिवार में चल रही अनबन के चलते और सपा में खुद की सही जगह नहीं बना पाने के कारण अपर्णा अपना राजनीतिक करियर भाजपा में तलाश करना चाहती हैं और बीजेपी तथा पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफे तो वो हमेशा से ही करती आई है।


Comment