v कांग्रेस के कद्दावर नेता प्रेमचंद गुड्डू हुए भाजपा में शामिल, मिला घटिया विधानसभा क्षेत्र से टिकट | Stillunfold

कांग्रेस के कद्दावर नेता प्रेमचंद गुड्डू हुए भाजपा में शामिल, मिला घटिया विधानसभा क्षेत्र से टिकट

साल 2009 से 2014 तक उज्जैन शहर के सांसद रहे कांग्रेस के ...

7 months ago
कांग्रेस के कद्दावर नेता प्रेमचंद गुड्डू हुए भाजपा में शामिल, मिला घटिया विधानसभा क्षेत्र से टिकट

साल 2009 से 2014 तक उज्जैन शहर के सांसद रहे कांग्रेस के नेता प्रेमचंद गुड्डू ने आज भाजपा में शामिल हो गए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आज भी राजा महाराजाओं की पार्टी है और वहाँ किसी भी निम्न वर्ग के लोगों के लिए कोई जगह नहीं है। गुड्डू के इस कदम से कांग्रेस पार्टी को एक बड़ा झटका लगा है। भाजपा में शामिल होते ही पूर्व कांग्रेस नेता को घटिया विधानसभा क्षेत्र से विधायक का टिकट भी दे दिया गया है। कैलाश विजयवर्गीय, नरेंद्र सिंह तोमर, थावरचंद गेहलोत की उपस्थिति में दिल्ली में उन्होंने भाजपा की सदस्यता ली। वही इंदौर में उनके पुत्र अजीत बौरासी ने भी कृष्ण मुरारी मोघे की उपस्थिति में भाजपा की सदस्यता ली। अजीत प्रदेश में युवा कांग्रेस के अध्यक्ष थे। 

प्रेमचंद गुड्डू कांग्रेस में कार्यकर्ता से ब्लॉक अध्यक्ष, विधायक, सांसद तक का सफर किया था। पर अब उन्हें ये महसूस होने लग गया था कि कांग्रेस वो नहीं रही जहाँ से उन्होंने ये सफर तय किया था। इसलिए उन्होंने कैलाश विजयवर्गीय से मिलकर अपने मन की बात कही, और भाजपा में शामिल हो गए। भाजपा में शामिल होते ही प्रेमचंद गुड्डू ने कहा की मुझे कांग्रेस में घुटन होने लगी थी। गुड्डू ने कहा की वे प्रधानमंत्री जी व मुख्यमंत्री जी से बेहद प्रभावित है और जो संगठन दायित्व देगा उसे वो पूरी निष्ठा से निभाएंगे। 

इस कारण से वे भाजपा में शामिल हुए

गुड्डू दिग्विजय सिंह के बहुत क़रीबी माने जाते थे इसलिए उन्हें कोई महत्व नहीं दी जा रही है। यह बात उन्होंने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के सामने भी रखी। कमलनाथ द्वारा कांग्रेस से उज्जैन में की गई नियुक्तियों में उन्हें वंचित रखा गया और इन सभी बातों को पार्टी की बैठक में उन्होंने रखा पर पार्टी द्वारा उनके बातों को अहमियत नहीं दी गई जिस कारण उन्होंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया।

इतने समय से वह विधायक रहे 

1998 में सांवेर विधानसभा से। 

2003 में आलोट विधानसभा से। 

2008 में आलोट विधानसभा से। 

2009 में उज्जैन से सांसद का चुनाव लड़कर सत्यनारायण जटिया को हराया। 

2014 में मोदी लहर के कारण उज्जैन से वे हर गए थे।

Comment