v प्रो कबड्‌डी लीग के पाँच साल के छोटे अंतराल में खिलाडियों की कीमत 12 गुना बढ़ी | Stillunfold

प्रो कबड्‌डी लीग के पाँच साल के छोटे अंतराल में खिलाडियों की कीमत 12 गुना बढ़ी

IPL के आने के बाद भारत में और दूसरे खेलों में भी फ्र

1 year ago
प्रो कबड्‌डी लीग के पाँच साल के छोटे अंतराल में खिलाडियों की कीमत 12 गुना बढ़ी

IPL के आने के बाद भारत में और दूसरे खेलों में भी फ्रेंचाइजी लीग्स का चलन धीरे धीरे बढ़ा है। इन्ही लीग्स में एक है प्रो कबड्डी लीग । इस लीग में 12 टीमे भाग लेती हैं । पिछले 5 सालों से चल रही इस लीग की प्रसिद्धि धीरे धीरे बहुत बढ़ी है ।

प्रो कबड्‌डी लीग-6 के लिए पिछले बुधवार को खिलाड़ियों की नीलामी की गईं, जिसमें भारतीय खिलाड़ी मोनू गोयत को हरियाणा स्टीलर्स टीम ने 1.51 करोड़ रुपए की बड़ी रकम में खरीदा। मोनू गोयत इस सीजन के सबसे महंगे कबड्डी खिलाड़ी बन गए हैं। वैसे, अगर प्रो कबड्डी लीग के पहले सीजन से अभी तक का आकलन करें तो पिछले पांच सालों में सभी कबड्डी खिलाड़ियों की कीमत लगभग 12 गुने का इजाफा हुआ है। इस नीलामी में सभी 12 टीमें हिस्सा ले रही थीं । एक टीम के पास खरीददारी करने के लिए अधिकतम 4 करोड़ का पर्स होता है। बता दें की इस नीलामी में 9 टीमों ने अपने पुराने 21 खिलाड़ियों को फिर से रिटेन किया है।

नीलामी शुरू होने के बाद दोपहर के सत्र में न्यू यंग प्लेयर्स (एनवाईपी) की नीलामी हुई थी । गुजरात फॉर्च्यून जाएंट्स टीम ने सबसे अधिक तीन एनवाईपी खिलाड़ी को अपने टीम के लिए खरीदा । इसके अलावा, तमिल थलाइवा, पुणेरी पलटन, जयपुर पिंक पैंथर्स, हरियाणा स्टीलर्स, दबंग दिल्ली ने भी एक-एक एनवाईपी खिलाड़ी पर बोली लगाई।

जहाँ साल 2014 में सबसे अधिक बोली 12.80 लाख रुपए की थी वहीं इस साल होने जा रहे सीजन में सबसे ज्यादा बड़ी बोली डेढ़ करोड़ रुपए की लगे गई। इस बार की नीलामी में छह खिलाड़ियों की बोली एक करोड़ से अधिक लगी। जहाँ इस लीग के पहले सीजन में एक टीम ने अधिकतम सिर्फ 60 लाख रुपए खर्च किए थे वहीं इस बार महज़ 9 खिलाड़ियों को ही 60 लाख से ज्यादा रूपये मिले है ।

Source = Dainik Bhaskar

मोनू गोयत लीग के स्टार खिलाड़ी बन गए हैं । पिछले सीजन में पटना पायरेट्स की तरफ से खेलते हुए उन्होंने 39 मैच में सबसे अधिक 250 अंक बनाए थे। उन्होंने सबसे ज्यादा 9 बार सुपर-10 का स्कोर प्राप्त किया था। हरियाणा स्टीलर्स टीम के मालिक मुस्तफा गाउसे ने कहा, "मोनू हमारा टारगेट था। हम जानते थे कि उसकी बड़ी बोली लगेगी, लेकिन हम इसके लिए तैयार थे। वह लीड रेडर की भूमिका निभा सकता है।" 

इस नीलामी में ईरान के फजल अत्राचली सबसे महंगे विदेशी खिलाड़ी बन गए हैं । यू मुंबा टीम ने उन्हें एक करोड़ रुपए की ऊँची बोली लगा कर खरीदा है । जहाँ तक फजल की बेस प्राइस की बात करें तो वो 20 लाख रुपए थी। रॉनी स्क्रूवाला की टीम यू मुंबा की इस बोली को एक सोचा समझा स्ट्रेटजिक मूव के तौर पर भी देखा जा रहा है।

इरानी खिलाड़ी फजल प्रो कबड्‌डी लीग में खेलने वाले सबसे उम्दा डिफेंडरों में से एक माने जाते हैं। वे खेल के दौरान लेफ्ट कॉर्नर डिफेंडर के तौर पर खेलते हैं। वे पहले भी यू मुंबा टीम की तरफ से एक बार खेल चुके है ।  इस लीग के दुसरे सीजन में जब यू मुम्बा की तरफ से फैजल खेले थे तब यू मुंबा ने उन्हें महज़ 4 लाख रुपए में खरीदा था। यानी सिर्फ चार साल के अंतराल में वे 25 गुना ज्यादा महंगे खिलाड़ी बन गए हैं। इससे पहले वे गुजरात फॉर्च्यून जाएंट्स टीम की तरफ से खेले थे । ईरान के ही दूसरे डिफेंडर अबोजर दूसरे सबसे महंगे विदेशी खिलाड़ी बने। उन्हें 76 लाख की रकम पर तेलुगू टाइटंस टीम ने खरीदा।

Comment