योगी आदित्यनाथ का बयान: द्रौपदी का चीरहरण और तीन तलाक समान

5 months ago
योगी आदित्यनाथ का बयान: द्रौपदी का चीरहरण और तीन तलाक समान

तीन तलाक के मामले को लेकर अब सरकार भी सख्त नजर आ रही है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रिपल तलाक पर एक बड़ा बयान देते हुए सभी को चौका दिया। वही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी तीन तलाक के मुद्दे पर सख्त कदम उठाने की बात कही है।

दरहसल आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड द्वारा तीन तलाक की व्यवस्था बरकरार रखने के फैसले के बीच, योगी आदित्यनाथ ने आज इसकी तुलना ‘द्रौपदी के चीरहरण’ से कर दी। जाहिर सी बात है इसके बाद वे उलेमा की तीखी प्रतिक्रिया के निशाने पर आ गये।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की 91वीं जयन्ती पर रखे गए एक कार्यक्रम में योगी ने तीन तलाक मामले का जिक्र करते हुए कहा "इन दिनों में एक नयी बहस चली आ रही है. कुछ लोग देश की इस ज्वलंत समस्या को लेकर मुंह बंद किये हुए हैं, तो मुझे महाभारत की वह सभा याद आती है, जब द्रौपदी का चीरहरण हो रहा था, तब द्रौपदी ने उस भरी सभा से एक प्रश्न पूछा था कि आखिर इस पाप का दोषी कौन है"


तीन तिहाई लोग अपराधी 

योगी ने कहा कि इस मामले में एक तिहाई दोषी वे व्यक्ति है जो तीन तलाक की आड़ में अपराध कर रहे है। इसके अलवा एक तिहाई दोषी वे व्यक्ति भी है जो उनके सहयोगी है। इसके बाद भी योगी की बात खत्म नहीं हुई। उसके बाद हैं जो इस घटना पर मौन हैं ऐसे एक तिहाई व्यक्ति को भी योगी ने दोषी ठहराया। योगी ने कहा कि सच पूछें तो यह स्थिति पूरी व्यवस्था को कठघरे में खड़ा कर देती है।

योगी का बयान महत्वपूर्ण 

योगी आदित्यनाथ द्वारा दिया गया यह बयान आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड द्वारा कल तीन तलाक की व्यवस्था में यदि कोई फैसला नहीं लेने पर काफी महत्वपूर्ण माना जा सकता है।

देश एक तो शादी ब्याह के कानून भी एक 

योगी ने समान नागरिक संहिता का हवाला देते हुए कहा कि जब हमारा देश एक है तो कॉमन सिविल कोड (2.1-9) क्यों नहीं? योगी का सवाल था कि जब देश एक है तो शादी ब्याह के कानून एक क्यों नहीं होने चाहिए।

यह सभी बाते योगी ने, देश के 8वें और पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर की 91वीं जयंती है, इसलिए राज्य की राजधानी लखनऊ में कई कार्यक्रम रखे गए थे। साथ ही यूपी विधानसभा में आज पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर पर आधारित एक पुस्तक का समर्थन कार्यक्रम आयोजित किया गया। जहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुस्तक का विमोचन किया और चन्द्रशेखर की खूब सराहना की।



Comment