दिल्ली में बैठ कर ट्वीट करना आसान - कश्मीर जाओ फट जाएगी

कश्मीर में आज जो स्थिति है उसे देखकर भारत का आम ना...

4 months ago
दिल्ली में बैठ कर ट्वीट करना आसान - कश्मीर जाओ फट जाएगी

कश्मीर में आज जो स्थिति है उसे देखकर भारत का आम नागरिक भी चिंतित है, परन्तु राजनीती करने वालो को तो बस एक ट्वीट करना आता है। जब चुनावो के बाद लौट रहे सीआरपीएफ जवानों के साथ बदसलूकी का वीडियो सामने आया तो, हर भारतीय का खून खोल उठा। लेकिन पत्थरबाजों का समर्थन करने वालो की कमी नहीं रही। 

हमारे देश में ऐसे भी लोग है जिन्हे उन आर्मी के जवानो पर हमला करने वालो को बचाने में और उनकी पैरवी करने में संतुष्टि मिलती है। यहाँ तक कि कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, कांग्रेस के कुछ नेताओं ने तो इन पत्थरबाजों को नादान तक कह डाला। इस बात से यह तो समझ आ गया कि ये लोग अपनी गन्दी राजनीती के लिए कुछ भी कर सकते है।

जब एक पत्थरबाज को आर्मी ने जीप के आगे बांध कर शहर में घुमाया तो, उमर अब्दुल्ला का दिल पसीजने लगा और उन्होंने सीआरपीएफ जवानों पर ही ऊँगली उठा दी। जब तक ऐसे लोग हमारे देश में है, तब तक कश्मीर का मुद्दा सुलझना बेहद मुश्किल है।

इन जैसे लोग अपने एयर कंडिशन्ड रूम में बैठकर बस एक ट्वीट के लिए कश्मीर के युवाओं को भड़काने और पत्थर उठाने पर मजबूर करते है। एक तरह जहां हम पाकिस्तान द्वारा पनप रहे आतंकवाद को ख़त्म करने की बात कर रहे है। तो वही दूसरी तरफ ऐसे लोग भारत के होकर भी भारत को बाटने की मुहीम में लगे हुए है।

अगर इन वामपंथी और सेक्युलर तत्वों में जरा भी दम है सेना पर उंगलिया उठाना बंद करें और अपने बिलों से बाहर निकलकर केवल एक दिन बिना आर्मी के कश्मीर की गलियों में घूम कर दिखाए। जितना उछलते है न ये लोग सबकी फटकर हाथ में आ जाएगी। ये फर्जी लिबरल देशद्रोही सिर्फ मुँह चलना जानते है। इनके ओर कुछ हो भी नहीं सकता है।        


Comment