योगी ने नक़्शे कदम पर शिवराज - मध्य प्रदेश में भी नहीं चलेंगे अवैध बूचड़खाने

यूपी के मुख्यमंत्री योगी द्वारा अवैध बूचड़खानों

2 months ago
योगी ने नक़्शे कदम पर शिवराज - मध्य प्रदेश में भी नहीं चलेंगे अवैध बूचड़खाने

यूपी के मुख्यमंत्री योगी द्वारा अवैध बूचड़खानों को बंद करवाने के बाद, अब मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी इस मामले में कदम उठाया है। शिवराज द्वारा एलान किया गया है कि राज्य में अब अवैध बूचड़खानों को नहीं चलने दिया जाएगा। यह बात उन्होंने जैन मुनि की मौजूदगी में कही। इसके पहले नर्मदा यात्रा के दौरान शिवराज ने अवैध शराब की दुकानों को हटाने के आदेश भी दिए थे। 

दरअसल, रविवार के दिन शिवराज धार जिले के मोहनखेड़ा में मुनिश्री ऋषभ चंद्रविजय विद्यार्थी के 'आचार्य पद पट्टाभिषेक महा-महोत्सव कार्यक्रम' में मौजूद थे, जहा उन्होंने कहा; "जैन धर्म ने 'जियो और जीने दो' का मूल-मंत्र दिया है. जीवों के प्रति दया का भाव और अहिंसा का संदेश दिया है. हम सभी इसे आत्मसात करें और जीवों के प्रति दया का भाव रखें. इन्हीं विचारों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश की धरती पर कोई भी अवैध बूचड़खाना नहीं चलने दिया जाएगा."

बेटिया है तो कल है

Source = Deepawali

मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान (5.1-2) ने बताया कि मोहनखेड़ा तीर्थ में मानव सेवा की जाती है। इसके लिए यहाँ अखंड व्रत चलता है। यहाँ लोगो की सेवा के लिए विशेष प्रकल्प भी चलाए जाते है। एमपी के मुख्यमंत्री जी ने बताया की 'नमामि देवि नर्मदे' सेवा यात्रा के जरिए प्रदेश में नदियों के संरक्षण, पर्यावरण सुधार, जल-संरक्षण के प्रयास किये जा रहे है। इसके अतिरिक्त बेटियों को बचाने का महाअभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा “बेटियों के बिना सृष्टि नहीं चल सकती है, बेटियां हैं, तो कल है।”

आचार्य ऋषभचंद्र विजय को मिलेगा राजकीय अतिथि का दर्जा

शिवराज ने आचार्य ऋषभचंद्र विजय को राजकीय अतिथि का दर्जा प्रदान करने की बात भी कही। उन्होंने आचार्य जी से निवेदन किया कि वे पुरे प्रदेश का भ्रमण कर पीड़ित मानवता की सेवा के लिए मोहनखेड़ा तीर्थ द्वारा चलाए जा रहे प्रकल्पों को जन-जन तक पहुंचाएं। 

आचार्य जी ने भी मुख्यमंत्री द्वारा बेटी बचाओ अभियान के प्रति भी अपना समर्थन व्यक्त किया। इसके अलावा उन्होंने बूचड़खाने बंद किए जाने की घोषणा पर मुख्यमंत्री पर सद्भाव दिखाया।

रविवार को आयोजित इस कार्यक्रम में प्रदेश की खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत, पूर्व मंत्री कैलाश विजयवर्गीय, सांसद सावित्री ठाकुर, पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा सहित अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी और नागरिक भी मौजूद थे।

Comment