स्वच्छ सर्वेक्षण 2017: टॉप 2 में मध्य प्रदेश के दो शहर - इंदौर और भोपाल

आज गुरुवार को केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वैंकेय

7 months ago
स्वच्छ सर्वेक्षण 2017: टॉप 2 में मध्य प्रदेश के दो शहर - इंदौर और भोपाल

आज गुरुवार को केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वैंकेया नायडू ने स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार का ऐलान किया। इस सर्वेक्षण में मध्य प्रदेश के इंदौर शहर को देश के सबसे स्वच्छ शहर का खिताब दिया गया है। और खुशी की बात यह है कि दूसरे स्थान पर मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल शहर रही। वर्ष 2017 के स्वच्छ सर्वेक्षण को देश के 73 शहरों की 37 लाख जनसंख्या पर किया गया था। जिसमें 25 स्वच्छ शहरों को रैंकिंग दी गयी है। 

नई दिल्ली में कार्यक्रम आयोजित किया गया और वहां मोदी के स्वच्छ भारत के सपने पर खरे उतरे टॉप 20 शहरों के म्युनिसिपल कमिश्नर और महापौर को स्मृति चिह्न व सर्टिफिकेट भेंट किए गए।

यह है देश के सबसे स्वच्छ 10 शहर

जाने किस आधार पर हुआ सर्वेक्षण

स्वच्छ सर्वेक्षण (5.1-9) में कई चीजों को देखा गया जैसे सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, घर-घर से कूड़ा उठाव, सड़कों की सफाई, कचरे का निष्पादन, निजी व सामुदायिक शौचालय की स्थिति, सफाई को लेकर लोगों की आदतों में सुधार, गली-मोहल्लों की सफाई, अस्पतालों में सफाई, शहर के अंदर सफाई के लिए जागरुकता अभियान, ओडीएफ, कचरा निष्पादन, स्वच्छ पेयजल आदि।



इन दो गानों से दिया इंदौर का साथ

अब आप सोच सकते है कि भला स्वच्छता से गीत-संगीत का क्या संबंध हो सकता है। हम आपको बता दे कि इंदौर में हर दरवाजे से कचरा जमा करने के लिये दिन-रात चलने वाली करीब 350 छोटी गाड़ियों पर दो खास गाने बजते है और इन गीतों ने इंदौर को देश का सबसे साफ शहर बनाने में अहम भूमिका निभायी है।

इंदौर में धीमी चाल से चलती इन गाड़ियों पर लगे लाउड स्पीकरों में कैलाश खेर का गाया ‘स्वच्छ भारत का इरादा कर लिया हमने’ और शान की आवाज में ‘हल्ला-हो-हल्ला..इंदौर को स्वच्छ बनाना है, अब हमने ये ठाना है’ बजता रहता है। ये गाड़ियां पुरे दिन शहर में इतने फेरे लगाती हैं कि हर किसी के मुह पर इन दोनों गानों के बोल है।

आपको यह भी बता दे कि इंदौर को खुले में शौच से मुक्त कराने के लिये भी नगर निगम ने दो साल पहले अभियान छेड़ा था। नगर निगम ने लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता बढ़ायी साथ ही साथ 12,549 एकल शौचालय बनाये गये।

Comment