गोहत्या के विरोध में वीरेंद्र सहवाग ने शेयर की तस्वीर - फेन्स ने किया समर्थन

आज हमारे देश में गाय एक बहुत बड़ा मुद्दा बना हुआ है...

4 months ago
गोहत्या के विरोध में वीरेंद्र सहवाग ने शेयर की तस्वीर - फेन्स ने किया समर्थन

आज हमारे देश में गाय एक बहुत बड़ा मुद्दा बना हुआ है और इस मुद्दे पर बोलने से कोई नहीं चूकना चाहता है। हर कोई गाय पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहा है। हालांकि, इसमें कोई गलत बात नहीं है। सभी को बात रखने का पूरा हक़ है। इसी के चलते गुरुवार को पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने भी गाय को लेकर एक ट्विटर पर एक तस्वीर शेयर की है।

सहवाग द्वारा शेयर की गई इस तस्वीर में एक गाय संत के सामने झुकी हुई मुद्रा अर्थात प्रणाम करती हुई मुद्रा में खड़ी है। जैसे ही सहवाग ने इस तस्वीर को ट्विटर पर शेयर किया, यह तस्वीर लगातार शेयर हो रही है। क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग के इस ट्वीट को अब तक 4.6 K रि-ट्वीटस भी मिल चुके है।

क्या लिखा है इस तस्वीर में?

पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने जो तस्वीर शेयर की है। उसमें  नीचे लिखा है कि "यह तस्वीर 2008 में श्रीलंका में ली गई है। जिसमें संत ने गाय को हत्या से बचाया था, जिसके बाद गाय ने संत का कुछ इस अंदाज में शुक्रिया अदा किया।" सहवाग ने इस ट्वीट के साथ लिखा कि गाय का इस प्रकार का व्यवहार शानदार है।

कांग्रेस ने सरेआम काटी गाय

Source = Indianexpress

इन दिनों देश की फिजा को खराब करने की कोशिश भी लगातार जारी है। कुछ दिन पहले केरल में सार्वजनिक तौर पर गाय को काटने के बाद ही गाय को लेकर देश भर में चर्चा हो रही है। इस मामले में कांग्रेस जैसी बड़ी पार्टी के लोगों का हाथ बताया जा रहा है। यहाँ तक कि जो तस्वीरें सामने आयी है। उनमें इस कृत्या को करने वाले लोगों के गले में कांग्रेस पार्टी के चिन्ह बने कपडे दिखाई भी दे रहे है। यहाँ तक कि इस मामले में पार्टी ने चार कार्यकर्ताओं को पार्टी से निष्कासित भी किया है।

राजस्थान हाई कोर्ट की मांग

Source = Rediff

राजस्थान हाई कोर्ट ने बुधवार को गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का प्रस्ताव रखा है। राजस्थान हाई कोर्ट के जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने इस मुद्दे पर बात करते हुए कहा कि, गाय को राष्ट्रिय पशु घोषित करना चाहिए और उसके बाद जो भी गौहत्या करता है। उसे आजीवन कारावास की सजा होनी चाहिए। इस तथ्य के बाद से ही देश भर में इस बात की चर्चा हो रही है और कई लोग उनके प्रस्ताव से सहमत भी नजर आ रहे है।


Source = Ndtvimg

भले ही जस्टिस महेश चंद्र शर्मा बुधवार को रिटार्यड हो गए लेकिन उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा - 

'हमने मोर को राष्ट्रीय पक्षी क्यों घोषित किया. इसलिए क्योंकि मोर आजीवन ब्रह्मचारी रहता है. इसके जो आंसू आते हैं, मोरनी उसे चुग कर गर्भवती होती है. मोर कभी भी मोरनी के साथ सेक्स नहीं करता. मोर पंख को भगवान कृष्ण ने इसलिए लगाया क्योंकि वह ब्रह्मचारी है. साधु संत भी इसलिए मोर पंख का इस्तेमाल करते हैं. मंदिरों में इसलिए मोर पंख लगाया जाता है. ठीक इसी तरह गाय के अंदर भी इतने गुण हैं कि उसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए.'
Comment