जानिए उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बारे में कुछ दिलचस्प बातें

पिछले कुछ दिनों से उत्तर प्रदेश में राजनीती काफी गर्म रही है। एक तरह बीजेपी ने यूपी में एकतरफा बहुमत से वहां की सभी पार्टियों के होश उड़ा दिए थे। वही दूसरी तरफ यूपी के मुख्यमंत्री पद के लिए कई बड़े नेताओ के नाम की चर्चा भी एक अहम् मुद्दा बनकर सामने आई थी। परंतु पार्टी के सभी नेताओं के रजामंदी से उत्तर प्रदेश का सीएम आखिरकार चुन लिए गए हैं। 

ये वो चेहरा है जिसे सभी लोग फायर ब्रांड के नाम से जानते है। जी हाँ, हम योगी आदित्यनाथ की ही बात कर रहे है। अब यह तो सभी जान गए है कि योगी है यूपी के अगले मुख्यमंत्री, जिन्होंने मुख्यमंत्री पद की शपथ भी ले ली है। आज हम आपको उनके बारे में कुछ खास बातें बताने जा रहे है। जिन्हें जानकर आप भी समझ जायेंगे कि आखिर क्यों योगी को इतने पद की जिम्मेदारी दी गई है।

  1. यूपी के नवनियुक्त मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का असली नाम अजय कुमार बिष्ट है।
  2. इनका जन्म उत्तरकाशी में 5 जून 1972 को हुआ था।
  3. योगी ने गढ़वाल यूनिवर्सिटी से बीएससी की पढ़ाई की है।
  4. यह केवल 26 वर्ष की आयु में ही लोकसभा सांसद चुने गए थे। जिन्होंने अपना पहला चुनाव 1998 में लड़ा था।
  5. इसके बाद वो 1999, 2004, 2009 और 2014 में भी लगातार सांसद चुने गए।
  6. इन सभी बातो के अलावा उन पर एक जानलेवा हमला भी हुआ था, लेकिन उनकी किस्मत अच्छी थी और वो बाल-बाल बच गये थे।
  7. 2007 में हुए गोरखपुर दंगों के लिए योगी आदित्यनाथ को मुख्य आरोपी भी बनाया गया। जिसके कई मुकदमें दर्ज है।
  8. 2014 में महंत अवैद्यनाथ के प्राण त्यागने के बाद वह गोरखपुर मंदिर के पीठाधीश्वर बने।
  9. राजनीति में अपनी ताकत बढ़ने पर उन्होंने गोरखपुर के कई ऐतिहासिक मुहल्लों के नाम तक बदलवा दिए हैं। उन्होंने उर्दू बाजार का नाम हिंदी बाजार, अली नगर को आर्यनगर, मियां बाजार को माया बाजार का नाम दिया गया। ऐसे और भी कई उदाहरण हैं, जब आदित्यनाथ के सामने शासन-प्रशासन मुंह ताकते नजर आए हैं।



योगी आदित्यनाथ को यूपी में मुख्यमंत्री क्यों बनाया गया जाने -

  • अपने कट्टर हिंदूवादी चेहरे के कारण लोगो के बीच काफी फेमस हैं इसलिए वो बीजेपी के फायर ब्रांड नेता माने जाते हैं।
  • इस चुनाव में वेस्ट यूपी से लेकर पूर्वांचल तक योगी आदित्यनाथ ने जमकर प्रचार किया है और ऐसा भी माना जा रहा है कि इससे बीजेपी को भारी जीत में काफी फायदा हुआ।
  • करप्शन को लेकर देश का माहौल काफी गरमा गर्म रहा है और इस बीच आदित्यनाथ जैसे नेता पर करप्शन का कोई आरोप नहीं है। 
  • योगी की कोई लामबंदी नहीं है। उनके साथ गुटबंदी जैसी कोई चीज नहीं है। 
  • पूर्वांचल में लोगो के बीच काफी पॉपुलर है, इसलिए पूर्वांचल में अच्छी पकड़ रखते हैं जहां मोदी-राजनाथ-अमित शाह की सबसे ज्यादा दिलचस्पी रहती हैं।
  • सबसे खास बात गोरखपुर से 5 बार सांसद रहे हैं। विधायिका का अनुभव है।
  • आरएसएस के करीबी माने जाते हैं, इसलिए उनके नाम पर आसानी से मुहर लगी है।

   
Comment
Most Popular
'Tubelight' के नन्हे कलाकार माटिन ने पत्रकार की नस्लभेदी टिपण्णी पर दिया करारा जवाब

'Tubelight' के नन्हे कलाकार माटिन ने पत्रकार ...

जब सब-इंस्पेक्टर ने एम्बुलेंस के लिए रोक दिया राष्ट्रपति का काफिला

जब सब-इंस्पेक्टर ने एम्बुलेंस के लिए रोक दिया...

ब्रह्मपुत्र नदी से असम टू बांग्लादेश गौ तस्करी का हैरान करने वाला खुलासा - देखें वीडियो

ब्रह्मपुत्र नदी से असम टू बांग्लादेश गौ तस्कर...

24 घंटे 4 बड़े ऑपरेशन - सेना ने लश्कर और हिज्बुल के 5 आतंकी किये ढेर

24 घंटे 4 बड़े ऑपरेशन - सेना ने लश्कर और हिज्ब...

मोदी सरकार ने 3 सालों में 1200 व्यर्थ और सदियों पुराने कानूनों को किया खत्म

मोदी सरकार ने 3 सालों में 1200 व्यर्थ और सदिय...

संसद के विशेष सत्र में 30 जून को रात 12 बजे राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी लॉन्च करेंगे GST

संसद के विशेष सत्र में 30 जून को रात 12 बजे र...

रामनाथ कोविंद होंगे एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार - बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह

रामनाथ कोविंद होंगे एनडीए के राष्ट्रपति पद के...

अयोध्या को लेकर आप निश्चिंत रहें, जो भावनाएं हैं, उन्हें पूरा किया जाएगा - योगी आदित्यनाथ

अयोध्या को लेकर आप निश्चिंत रहें, जो भावनाएं ...