पाक में बिहाई भारतीय उज्मा लोटी अपने देश, सुषमा को दिया धन्यवाद - कहा "पाक मौत का कुआं है”

भारतीय नागरिक उज्मा जो पाकिस्तान में जबरन शादी क...

2 months ago
पाक में बिहाई भारतीय उज्मा लोटी अपने देश, सुषमा को दिया धन्यवाद - कहा "पाक मौत का कुआं है”

भारतीय नागरिक उज्मा जो पाकिस्तान में जबरन शादी का शिकार हुई थी वो वापस भारत लौट आयी है। भारत आने के बाद वे विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिली और मीडिया के सामने आयी। जहाँ उन्होंने अपनी आप बीती बताई। उज्मा ने पाकिस्तान में अपने ऊपर हुए अत्याचार की दस्ता बया करते हुए कहा कि "पाक मौत का कुआं है जहां एक बार चले गए तो वापस नहीं आ सकते।"  

उज्मा ने बताया कि पाकिस्तान के एक शख्स ने उनसे धोखे से शादी कि और उन्हें धमकिया भी दी गयी। साथ ही साथ प्रताड़ित भी किया गया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान जाना बहुत आसान है, पर पाक एक मौत के कुए के समान है जहाँ से कोई निकल नहीं सकता।

विदेशमंत्री सुषमा स्वराज की उज्मा ने खुले दिल से तारीफ करते हुए  कहा कि 

"सुषमा मैम को जितना भी धन्यवाद दूँ, उतना कम है। वो मुझे हमेशा दिलासा देती थी कि तुम्हे कुछ नहीं होगा, तुम भारत की बेटी हो, इससे मुझे बहुत हौसला मिला और आज में यहाँ इन्ही के प्रयासों की बदौलत ही सही सलामत कड़ी हूँ।"

उज्मा प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा - पाक में रहना नामुमकिन है

Source = Bhaskar

उज्मा ने कहा कि पाकिस्तान बहुत अच्छा है ऐसा जो मुस्लिम लड़कियां सोचती है और अरेंज मैरेज कर वहां जाती हैं, आज वो भी रो रही है। वह भी भारत वापस आना चाहती है। उज्मा ने बताया कि वहां एक - एक घर में दो-तीन-चार पत्नियां हैं। मुझे गर्व है अपने देश पर। यहां जो भी है, फ्रीडम है। उज्मा ने कहा कि पाकिस्तान में महिलाये ही नहीं आदमी भी सुरक्षित नहीं है।   

उज्मा प्रेस कॉन्फ्रेंस में भावुक हो गईं। उन्होंने कहा, 

"मुझे हिन्दुस्तान आकर बेहद खुशी हुई। अब लग रहा है कि मैं खुली हवा में सांस ले रही हूं। मैं सुषमा मैडम को धन्यवाद देती हूं। मैं सिर्फ घूमने के लिए पाकिस्तान गई थी। वहां, ताहिर ने मुझे नींद की गोलियां देकर टॉर्चर किया। किडनैप कर मुझे एक अजीब से गांव में रखा। वहां के लोग और बोली बिल्कुल अलग थी। उसने मुझे डराया और बेटी को किडनैप करने की धमकी देकर साइन करा लिए थे।”

  • “मैं अनाथ हूं। एडॉप्टेड डॉटर हूं। आज पता चला कि मेरे बारे में सोचने वाले कई लोग हैं। सुषमा मैडम मुझे लगातार फोन कर भरोसा दिलाती थीं। उन्होंने बार-बार कहा था- बेटी घबराओ मत, हम तुम्हारे लिए लड़ रहे हैं। मैं वहां दो-चार दिन और रुकती तो मार दी जाती या बेच दी जाती।''
  • “मैं वहां से निकल कर आ गई। लेकिन वहां, बुनेर में कई विदेशी लड़कियां कैद हैं। वहां के ज्यादातर लोग मलेशिया में रहते हैं। वहीं से लड़कियां लाकर पाकिस्तान में कैद कर लेते हैं। मैं अब किसी लड़की को पाकिस्तान जाने की सलाह नहीं दूंगी। फिर चाहे वो मुस्लिम ही क्यों ना हो।''
  • उज्मा बोलीं, “मैं कई दिन तक इंडियन हाईकमीशन में रही। सुषमा मैम ने अफसरों से कहा था- कुछ भी हो जाए, बेटी को ताहिर को मत सौंपना। वो विदेश मंत्री हैं, लेकिन मेरी हर एक तारीख और बात उन्हें याद रहती थी। उन्होंने कोर्ट में सुनवाई से पहले कहा- बेटी डरना मत तुम देश की बेटी हो, मेरी बेटी हो।''
  • “पाकिस्तान जाना आसान है, लेकिन जिंदा लौटना मुश्किल। पाकिस्तान मौत का कुआं है। लड़कियां सोचती हैं कि वहां मुस्लिम कल्चर है तो पाकिस्तान अच्छा होगा। मैं कहती हूं कि वहां औरत तो क्या आदमी भी सेफ नहीं हैं। वो नर्क है। मैंने दुनिया देखी। पाकिस्तान, मलेशिया और सिंगापुर देख लिया। अपना हिन्दुस्तान सबसे अच्छा है। यहां औरतों का सम्मान है। मुझे भारत की बेटी होने पर गर्व है।''


सुषमा स्वराज ने कहा

सुषमा स्वराज ने कहा कि उज्मा की कहानी उज्मा से ही सुनी हैं क्योंकि बहुत सी बातें मुझे आज मालूम हुई है। सुषमा जी ने कहा कि "मैं अपना फर्ज अदा कर रही थी. जबकि उज्मा उन्हें बार बार धन्यवाद कर रही थी." 

सुषमा स्वराज ने कहा कि 

"उज्मा ने संकट में इंडियन हाईकमिशन पर भरोसा किया. ये बड़ी बात है. कहीं एक रोशनी की किरण दिखे, वो भारतीय दूतावास दिखता है. जेपी सिंह जैसे अफसरों पर गर्व है.'
Comment